बाहरी चिकित्सक का वोर्ड लगा कर अप्रशिक्षित लोग कर रहे इलाज व जांच ,मंत्री जी आखिर ऐसे लोगो पर कब कार्यवाही करेगा स्वास्थ्य विभाग ,इटवा क्षेत्र में बेरोक टोक फल फूल रहा है अबैध रुप से संचालित नर्सिगहोम

इटवा, सिद्धार्थनगर ।स्थानीय क्षेत्र में स्वास्थ्य विभाग की उदासीनता के चलतें आये दिन जहां मरीजो का शोषण के साथ ही जीवन सेखिलवाड़ हो रहा । वही दूसरे तरफ इटवा कस्बे से लेकर विस्कोहर व कठेला आदि चैराहो पर बेखौफ होकर लोग मेडिकल नियमो की धज्जियां उड़ाते हुये बाहरी चिकित्सक का वोर्ड लगाकर मरीजो के जीवन से खिलवाड़ करते है। जिले के ही स्वास्थ्य मंत्री जी भी है उसके बाद भी ऐसे लोगो पर अंकुश नही लग पा रहा है। क्षेत्र के ग्राम चैखडिया निावासिनी एक महिला ने इटवा केएक कथित जच्चा बच्चा केन्द्र पर बच्चे केमामले में अपने को एडमिट कराया था । जिसका गलत आपरेशन होने पर पूरा परिवार धन व तन से तबाह हो गया और आज भी वह गरीब वरिवार लखनउ में इजाल कराने केसाथ ही जिन्दगी व मौत से लड़ने को मजबूर है। ऐसे कई लोग पैसा गवांने के साथ ही विभिन्न तरीके से आये दिन फर्जी व अप्रशिक्षित लोगो केे हाथो शोषण शिकार हो रहा है। कोई आयुर्वेद के डी फार्मा की डिग्री लेकर एलोपैथ की मेडिकल स्टोर के साथ नर्सिग
होम चला रहा है। तो वाहरी चिकित्सक के नाम पर फर्जी हस्ताक्षर करदिन भर न जाने किजने अल्टासाउन्ड व ब्लड जाच का रिपोर्ट तैयार करते है जिसमे हल्की चूक से मरीज के इलाज की दिशा व दशा बदल जाय । परन्तु विभाग के बेपरवाह नौकरशाह मूक बाधिर बनें हुए हैं । जिससे लोगों में आक्रोष व्याप्त है । ग्रामीण बिनोद कुमार ,अमित यादव ; अजोरें , प्यारे , तिलकराम , दिलीप कुमार , विक्की सहित दर्जनों लोगों ने विभाग के उच्चधिकारियों का ध्यान अवलोकित करातें हुये जांच की फरियाद की हैं। इस संबंध में इटवा सीएससी अधीक्षक डा0 बीके बै़द्य कहना है कि समय समय पर विभाग द्वारा अभियान चलाया जाता है।और अबैध व मानक विहीन पाये जाने पर कार्यवाही की जाती है।
क्षेत्र में मुन्नाभाइयों की भी भरमार
जानकारी के मुताबिक क्षेत्र के बिस्कोहर ,सेमरी ,झकहिया, बढ़या , कठेला , खड़सरी , सेंदुरी , धोबहा सहित हर छोटें बड़ें चैराहों ,नुक्कड़ों पर लाल पीली गोलियों से इन मुन्नाभाईयों की दुकानें सजी हुयी है । परन्तु विभाग के जिम्मेदारों को इन्हें देखनें का समय नही है ।ंफिलहाल कुछ भी हो सजा तो उन गरीबों को झेलना पड़ता है जो गरीबी की दलदल में जूझ कर अपनी जिन्दगी का गुजर बसर करतें है । क्योंकि अमीर तो अपनी इलाज के लिए शहर की तरफ पलायन कर जाता है । और गरीब तो गरीबी की मार से अपाहिज होकर इन मुन्नाभाईयों के हाथों का शिकार बन कर ही रह जाता है ।

पूर्व मा0 व प्राथमिक विद्यालय पाला में बच्चों को सब्जी के नाम पर परोसा जा रहा पानी, साहब एक नजर इधर भी

अवधेश दूबे की रिपोर्ट

सिद्धार्थनगर। मुख्यमंत्री व शिक्षा मंत्री शिक्षा में सुधार के लिए निरंतर प्रयत्न शील है व बच्चों को गुणवत्ता पूर्ण भोजन देने के लिए सभी जिम्मेदारो़ को निर्देश दे रखा है। परन्तु कतिपय जिम्मेदारो़ की खाऊ कमाऊ नीति के कारण मुख्यमंत्री व शिक्षा मंत्री की मंशा को फेल करने में लगे हुए हैं।
जिसका जीता जागता मिशाल मिठवल ब्लॉक के पूर्व व प्राथमिक विद्यालय पाला का है। जहाँ पर बच्चों को सब्जी के नाम पर पानी परोसा जा रहा है। सोमवार को प्राथमिक विद्यालय पाला में बच्चों को मीनू में देने वाले रोटी सब्जी में 1 किग्रा सब्जी मे लगभग 7 लीटर पानी मिलाकर परोसा जा रहा है। वही विद्यालय से सहायक अध्यापिका रीता वर्मा भी नदारद मिली। इस सम्बन्ध में विद्यालय इंचार्ज मीना आर्य ने बताया कि सहायक अध्यापिका रीता वर्मा द्वारा अष्टमी की छुट्टी के लिए फोन से बताया गया है। इस बावत खण्ड शिक्षा अधिकारी मिठवल पंकज मौर्य से फोन पर बात करने की कोशिश की परन्तु उन्होंने फोन रिसीव नहीं किया।

शोहरतगढ़ क्षेत्र:- अधिकांश ग्राहक सेवा केन्द्रो पर हो रहा खाता धारको शोषण ,1 हजार के पीछे निकासी पर 10 रुपये से 20 रुपये तक हो लिया जा रहा अतिरिक्त चार्ज प्रशासन व बैंक के अधिकारी बेखबर, क्षेत्रीय जनो ने जिलाध्किारी से समस्या से निजात की मांग की

images

शोहरतगढ़, सिद्धार्थनगर। जिले के शोहरतगढ़ क्षेत्र में इन दिनो ग्राहक सेवा केन्द्र संचालको की मनमानी की चर्चाएं आम हो चुकी है। यह 10 हतार रुपसे निाकासी पर 100 से 200 रुपये खाता धारक अतिरिक्त चुकानो को मजबूर है। बावजूद प्रशासन व बैंक के अधिकारियों का ध्यान इस समस्या के तरफ नहीं जा रहा है। बताया जाता ह कि क्षेत्र के बैंक शाखाओं पर 10 हजार से कम निकासी वाले खाता धारको का ग्राहक सेवा केन्द्रों पर भेज दिया जाता है। कई स्थानों पर बैंक शाखाओं के इर्द गिर्द खुले ग्राहक सेवा केन्द्र पर भी खुलेआम 10 से 20 रुपये प्रति हजार ग्राहको से वसूला जा रहा है। क्षेत्र के तुलसियापुर चैराहा , कोटिया बाजार, परसा , ढेबरुआ , सहित अन्य चैराहो पर खुलेआम खाता धारको से अतिरिक्त पैसा लिया जा रहा है।
जनप्रतिनिधि व प्रशासन पर उदासीनता का आरोप
क्षेत्र में किसानो व आम जन के खाता धारको का शोहरतगढ़ क्षेत्र में शोषण कम होने का नाम नहीं ले रहा है। क्षेत्र के बिरजू यादव , समीउल्लाह , ज्ञानेन्द्र पाण्डेय , सुफल चैधरी आदि का कहना है कि अधिकांश ग्राहकसेवा केन्द्र बैंक कर्मियों की मिली भगत से खाता धारको से पैसा निकासी के नाम पर अतिरिक्त चार्ज से रहे है। और बैंक के कर्मचारी व अधिकारी शिकायतो को गम्भीरता से नहीं ले रहे है। यदि प्रशासन व जनप्रतिनिधि समय समय पर ध्यान दें तो लोगो को इस समस्या से निजात मिल सकता है। नेकिन प्रशासन जनप्रतिनिधि भी उदासीन बने हुये है। स्थानीय लोगो ने जिलाधिकारी से उक्त समस्या से निजात की मांग की है।

कार्यवाई : फर्जी स्टाम्प के सहारे मकान को खाली भूमि दिखाकर करवा ली रजिस्ट्री , तहसीलदार इटवा राजेश अग्रवाल द्वारा की गई जांच में सामने आयी भूमाफियाओं की करतूत

मेराज़ मुस्तफा

सिद्धार्थनगर : पच्चीस वर्ष पूर्व खरीदी गई भूमि पर मकान बनाकर निवास कर रहे इटवा तहसील क्षेत्र के ग्राम मूसा निवासी रव्वाब अली पुत्र यार मोहम्मद को पूर्व भू स्वामी द्वारा मकान खाली करने की धमकी दिए जाने से पीड़ित रव्वाब अली सोमवार को लिखित प्रार्थना पत्र के साथ तहसीलदार इटवा राजेश अग्रवाल के पास पहुंचकर न्याय की गुहार लगाई तो उक्त प्रकरण को गम्भीरता से लेते हुए तहसीलदार राजेश अग्रवाल ने पीड़ित की बात सुनकर जब तथ्यों की जांच की तो भूमाफियाओं का हैरतअंगेज कारनामा सामने ।

क्या है मामला ?

इटवा तहसील क्षेत्र के ग्राम मूसा निवासी रव्वाब अली पुत्र यार मोहम्मद ने लिखित शिकायत के द्वारा तहसीलदार इटवा राजेश अग्रवाल के समक्ष अपनी बात रखी तो ज्ञात हुआ कि ग्राम मूसा की आराजी संख्या ६८९ जिसका कुल रकबा ०.०५७ हेक्टेयर है व उपरोक्त आराजी पर पीड़ित रव्वाब अली तकरीबन पच्चीस वर्षो से मकान बनाकर निवास कर रहा लेकिन ग्राम मूसा के ही भू-माफिया इसराईल द्वारा लगातार उक्त घर को खाली करने की धमकी दे रहा ।

अशिक्षा व अज्ञानता के चलते पीड़ित उक्त भूमि को अपने नाम से नही दर्ज करवा सका

मुंबई में रहकर मजदूरी कर किसी तरह जीवन यापन के लिए मेहनत करके जमा की गई पाई-पाई से रव्वाब अली ने उपरोक्त आराजी क्रय किया था व पच्चीस वर्षों से मकान बनाकर निवास भी कर रहा लेकिन अज्ञानता व अशिक्षा के चलते क्रय की गई भूमि को अपने नाम नही दर्ज करवा सका जिसकी जानकारी ग्राम के ही इसराईल को हुई तो फर्जी स्टाम्प स्टाम्प द्वारा चोरी चुपके से उक्त भूमि को स्वयं के नाम से खाली भूमि दिखाकर रजिस्ट्री करवा ली व पीड़ित रव्वाब अली को लगातार मकान खाली करने की धमकी देने लगा जिससे पीड़ित रव्वाब अली सकते में आ गया व सोमवार को न्याय की गुहार लगाते हुए तहसीलदार इटवा राजेश अग्रवाल के समक्ष पहुचा तो उन्होंने सभी तथ्यों की जांच स्वयं करने का निर्णय लिया । तहसीलदार राजेश अग्रवाल द्वारा किए गए जांच में भू-माफिया का हैरतअंगेज कारनामा सामने आया जिससे तहसीलदार राजेश अग्रवाल स्वयं भी स्तब्ध रह गए कि किस तरह से फर्जी दस्तावेजों के सहारे रजिस्ट्री दिखाया गया है।

तहसीलदार राजेश अग्रवाल ने कहा पीड़ित को मिलेगा न्याय व फर्जीवाड़ा करने वाले को पर होगी सख्त कार्यवाई

मौके पर जाकर जब तहसीलदार राजेश अग्रवाल ने देखा तो सर्वप्रथम उक्त आराजी को खाली दिखाकर करवाई गई रजिस्ट्री के विपरीत मकान बना मिला एवं भू-माफिया से फोन पर बात की एवं सभी बातों की पुष्टि करने के लिए पूछताछ की तो भू-माफिया इसराईल उन्हें सही तरीके से जवाब न दे सका बाद में दस्तावेजों के फर्जी होने की बात स्पष्ट रूप से खुलकर सामने आ गई जिसपर तहसीलदार राजेश अग्रवाल ने पीड़ित पक्षकार रव्वाब अली पुत्र यार मोहम्मद को आश्वासन दिया कि उनके साथ किसी भी तरह से अन्याय नही होने पाएगा व फर्जी स्टाम्प द्वारा कूटरचित तरीके से भूमि की रजिस्ट्री दिखाकर धमकाने वाले आरोपी को कठोर से कठोर दण्ड दिलाया जाएगा ताकि भविष्य में कोई भी भू-माफिया इस तरह के कार्यों से किसी का शोषण न करने पाएं।तहसीलदार राजेश अग्रवाल के द्वारा प्रार्थना पत्र मिलने के तुरंत बाद ही एक्शन लेने व दिन भर में ही पूरे मामले को स्पष्ट कर पीड़ित पक्षकार रव्वाब अली को न्याय दिलाने की बात सुनकर तहसील क्षेत्रवासियों द्वारा तहसीलदार राजेश अग्रवाल की सराहना व गुणगान करते नही थक रहे तो दूसरी तरफ तहसील क्षेत्र के भू-माफियाओं के होश उड़े हैं ।
तहसीलदार राजेश अग्रवाल के द्वारा न्याय के लिए त्वरित उठाए गए इस कदम से लोगों ने उम्मीद जताई कि ऐसे अधिकारियों के होने से क्षेत्र में कोई भी व्यक्ति किसी गरीब व दबे कुचले वर्ग का शोषण नही कर सका ।

इटवा क्षेत्र में धड़ल्ले से अबैध रुप से कदम कदम पर संचालित हो रहा कथित ग्राहक सेवा केन्द्र , संबंधित बैंक को नहीं है सूचना , आये दिन हो रहा है ग्राहको के साथ धोखाधड़ी

इटवा,सिद्धर्थनगर। इटवा क्षेत्र में इन दिनों इंटरनेट की दुकानों पर भी आाधार से पैसा निकालने का कार्य धड़ल्ले से जारी है। जो समय समय पर ग्राहको के साथ मनमानी करने पर भी नहीं चूकते । आये दिन बैंको में भी खाते से पैसे गायब होने की मौखिक शिकायतो की भरमार रहती है। बावजूद प्रशासन से लेकर बैंक के अधिकारी तक इस विष को लेकर तनिक भी गंभीर दिखाई नहीं दे रहे है। कार्यवाही के आभाव में ऐसे कई दुकानदार खाता धारको से पैसा भी ले रहे है। और साथ में कुछ दुकानदार ग्राहको के खाते से अतिरिक्त पैसा चोरी करने में भी परहेज नहीं करते है। बतौर क्षेत्रवासी राम किशुन , किताबुल्लाह ,राम सजन , दिलदार खां , राम चरन गौतम आदि ने तहसील प्रशासन से ऐसे अनाधिकृत दुकानों पर कार्यवाही की मांग की है।

ग्राहक सेवा केन्द्र या बैंक से ही करे धन निकासी
एक बैंक के शाखा प्रबन्धक से बात करने पर उन्होने बताया कि खाता धारको को स्वयं के बैक या फिर अधिकृत ग्राहक सेवा केद्र से ही पैसा लेनदेन करना चाहिये। क्योकि उनके पास ग्राहको का ट्रान्जक्शन रिकार्ड रहता है। जिसकी समय समय पर बैंक अधिकारी मानीटरिंग करते है।

जबरन ज़मीन कब्ज़ा करवाने का आरोप, उपजिलाधिकारी इटवा ने दिया जांच का आदेश

उत्तर प्रदेश के जनपद सिद्धार्थ नगर के तहसील इटवा क्षेत्र के ग्राम कम्हरिया गांव के निवासी मो. उमर पुत्र स्वर्गीय अब्दुल करीम ने गांव के ही निसार पुत्र चौधरी पर जबरन ज़मीन कब्ज़ा करवाने का आरोप लगाया है। उपजिलाधिकारी इटवा को दिए पत्र में अपने चाचा के द्वारा पैतृक संपत्ति को सिर्फ अपने नाम करवा लेने का आरोप लगया है जबकि उक्त विवादित ज़मीन पर कोर्ट द्वारा स्टे था।आरोप है कि 13 नवंबर की रात को निसार द्वारा असलहे के बल पर मो. हसन का कब्ज़ा दिलवाई गयी है। मो. उमर द्वारा विरोध करने पर लाठी डंडा लेकर दौड़ा लिया जिस कारण उसने भाग कर अपनी जान बचाई।

शिकायत मिलने पर उपजिलाधिकारी इटवा ने जांच के आदेश दे दिये हैं।

नगर पंचायत शोहरतगढ़ मे प्रधानमन्त्री आवास योजना में भारी धांधली, जिलाअधिकारी से कार्यवाही की मांग

बाणगंगा/सिद्धार्थनगर। स्थानीय कस्बे में प्रधानमन्त्री आवास योजना में भारी धांधली सामने आ रही है। जिसकी शिकायत सभासद संजीव जायसवाल व अशरफ अंसारी उर्फ बाबूूूजी ने जिलाधिकारी सिद्धार्थनगर से की है। प्राप्त जानकारी केे मुुुताबिक प्रधानमंत्री आवास योजना मे पात्रों के चयन मे डूडा के अधिकारियों और सर्वे करने वाले फील्ड कर्मचारियों ने जमकर लाभ का खेल खेला है। ऐसे लोगों को आवास योजना का लाभ दिया गया है, जिनके पास पहले से पक्का मकान है तथा पक्के मकान वाले एक ही परिवार के दो सदस्यों को आवास योजना का लाभ दिया गया है। आर्थिक रूप से संपन्न परिवारों को भी आवास योजना से नवाजा गया है। इसके बदले मे भरपूर अनुग्रह राशि वसूल की गयी है। प्रथम चरण मे 45 लाभार्थियों का चयन ऐसे लोगों के कहने पर किया गया है, जो गरीब तथा असहाय हैं और खतरनाक व जर्जर हो चुके मकानों और झोपड़ी मे रहने को मजबूर हैं। एक ही तरह के दो मामलों मे अलग -अलग मापदंड अपनाया जा रहा है। इसी तरह 103 पात्रों की दूसरी सूची में भी इसी तरह के कारनामे के सामने आने की पूरी उम्मीद है। कुछ लोगों को नगर पंचायत की सीमा से बाहर आवास बनवाने की अनुमति भी दे दी गयी है और डूडा के अधिकारी ऐसे लोगों के पक्ष मे खुलकर सामने आ गये हैं। कई बार सर्वे करने के बाद भी अपात्रों की चांदी हो रही है और उनकी दूसरी और तीसरी किस्त जारी कर दी गयी है। इस संबन्ध मे शिकायत होने के बावजूद डूडा के अधिकारी अपात्रों का बचाव कर रहे हैं। ढेरों अनियमिताओं के बीच डूडा के कर्मचारियों द्वारा लाभार्थियों से वसूली निर्बाध रूप से से जारी है।

होरिलापुर का कोटेदार खाद्यान्न ब्लेक करते पकड़ा गया , पुलिस लाई थाने पर फिर छोड़ा , छेत्र में तरह तरह की हो रही चर्चाएं

क्राइम रिपोर्टर

रात के अंधेरे में वाहन से खाद्यान हटाते हुए फोटो कैमरे में हुई कैद

इटवा , सिद्धार्थनगर । इटवा तहसील अन्तर्गत स्थित ग्राम पंचायत होरिलापुर के कोटेदार को खाद्यान्न बेंचते हुए स्थानीय पुलिस ने उसके होरिलापुर सरकारी कोटे की दुकान से आज दिनांक -14-10-2018 रविवार सुबह लगभग 10:30 पर मुखबिर के सूचना पर पुलिस ने दुकान रंगे हाथ पकड़ा ,कोटेदार के दुकान की तलाशी ली, तो मौके पर लगभगग 40 बोरी गेहूं -चावल पास के गांव रतनपुर के एक बनिया के हाथ बेंच रहा था, पुलिस क्रेता –बिक्रेता दोनों को पुलिस थाने पर लाई परन्तु पूछ -ताछ कर मामले को इतिश्री कर दिया गया । कार्यवाही न होने पर गांव व आस पास के गांव में तरह -तरह की चर्चाएं हो रही हैं !
कोटेदार रविवार देर सायं लगभग 8:00 बजे पिकप में लोड करवाकर लगभग चालीस बोरी खाद्यान ठिकाने लगा दिया!
ग्रामीणों ने उक्त सरकारी राशन के दुकान पर अवैध रूप से बेंची जा रही खाद्यान्न पिकप पर लोड करते हुए वीडियो व फोटो खींच लिया, और एस. डी. एम इटवा को फोन करके कोटेदार की काले कारनामों से अवगत कराया । ग्रामीणों का आरोप है कि पुलिस कर्मियों की मिली भगत से कोटेदार बेख़ौफ होकर राशन को अवैध तरीके से अन्यत्र भेज दिया।
जिसकी जांच होनी चाहिए ।
हरिहर यादव, जुगुल निषाद, केवला, सुरेन्दर, विक्रम निषाद आदि लोगों ने उपजिलाधिकारी इटवा से इस गंभीर प्रकरण की जांच कर इसमें लिप्त दोषियों के खिलाफ कार्यवाही की मांग की है! कोटेदार का नाम –श्रद्धा देवी पत्नी मनबहाल होरिलापुर के नाम से दर्ज है!

कोटेदार का जेठ –सोमई कोटा चला रहा था !

सौभाग्य योजना के अंतर्गत दिये जा रहे फ्री में कनेक्शन में धन उगाही का लगाया आरोप , जिलाधिकारी को लिखित शिकायती पत्र देकर कार्यवाही की मांग की

इटवा , सिद्धार्थनगर । सरकार द्वारा सौभाग्य योजना के अंतर्गत दिये जा रहे फ्री में कनेक्शन में धन उगाही का आरोप लगाते हुए समाज सेवी व दुर्गाजोत निवासी सेवी वाई. एन. उर्फ पिंकू शुक्ल ने तहसील दिवस में लिखित शिकायती पत्र जिलाधिकारी को देकर कार्यवाही की मांग की है । दिये शिकायती पत्र में दुर्गाजोत निवासी पिंकू शुक्ला ने लिखा है की
इसमे ठेकेदार एवं क्षेत्रीय अधिकारियों के मिलीभगत में रकम लिये बिना लाभार्थी को कोई लाभ नही पहुँचाया जा रहा है जिसकी शिकायत दुरभाष के माध्यम से विद्युत उप खण्ड इटवा से किया गया जिस पर अब तक कोई कार्यवाही नही किया गया जिसका उदाहरण इटवा तहसील में स्थित ग्राम दुर्गाजोत है जहाँ गाँव मे एक अपने आप को ठेकेदार बने बैठे हुये कुछ लोग गाँव मे जब किसी से पैसे लेते है तो उनके घर पर खम्भे,बिलिंग मीटर,20 मीटर तार दे रहे है और गाँव दो पार्टी है जो वर्तमान प्रधान दरकिनार कर पूर्व प्रधान के इशारे पर अपने लोगो के यहाँ ही बिजली खम्भा,बिलिंग मीटर,20 मीटर तार का लाभ पहुचाया जा रहा है । उन्होनें जिलाधिकारी से जांच की मांग की है ।
शिकायकर्ता —–
वाई. एन. उर्फ पिंकू शुक्ल
दुर्गाजोत, इटवा,सिद्धार्थनगर ।
मो.न.-7518161241

खुनियाव विकास छेत्र के प्राथमिक विद्यालय पटेहरी में बाउंड्रीवाल केनिर्माण में उड़ रही मानकों की धज्जियां , शेयम दर्जे के ईंट के प्रयोग से ग्रामीण आक्रोशित

इटवा , सिद्धार्थनगर । खुनियाव विकास छेत्र के ग्राम पटेहरी में स्थित प्राथमिक विद्यालय के बाउंड्रीवाल के निर्माण में मानकों की धज्जियां उड़ाई जा रही है पर पानी फिरता नजर आ रहा है ।जहां काफी दिनों से स्कूल में बाउंड्रीवाल नहीं था ग्रामीणों के लगातार मांग पर जैसे तैसे बाउंड्रीवाल का निर्माण कार्य शुरू । कार्य प्रारम्भ हुआ तो ग्रामीणों में अपार खुशी हुई कि उनके व बच्चों कि समस्या को ध्यान में रखते हुए य़ह कार्य शुरू हुआ । लेकिन कार्यदायी संस्था कि मनमानी के कारण एक बार फिर ग्रामीणों मायूस नजर आ रहे है । कारण निमार्ण कार्य में सेयम दर्जे के ईंट का प्रयोग किया जा रहा । जिसको लेकर ग्रामीणों ने जिम्मेदारो से शिकायत भी की । वावजूद जिम्मेदारो ने ध्यान नहीं दिया । ग्रामीणों का कहना है की यदि मामले की जांच नहीं हुई तो हम सब जिलाधिकारी कार्यालय का घेराव करेंगे । ग्रामीणों का कहना है की जहां एक तरफ खराब ईंट का प्रयॊग किया जा रहा है वहीं सीमेंट व मौरंग एवं बालू के मिश्रण के अनुपात में भी मानकों की धज्जियां उड़ाई जा रही है । ग्रामीणों ने जिला अधिकारी सिद्धार्थनगर से मामले की जांच की मांग की है ।