15000 रूपये का ईनामी अपराधी तमन्चा व कारतूस के साथ गिरफ्तार , गिरफ्तार अपराधी टाप टेन व रजिस्टर्ड गैंग डी-11 का सक्रिय सदस्य भी है

शोहरतगढ़/सिद्धार्थनगर। अपराध एवं अपराधियोंं पर प्रभावी नियंत्रण हेतु पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थनगर विजय ढुल के दिशा निर्देशन में एवंं
अपर पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थनगर मायाराम वर्मा व पुलिस उपाधीक्षक सुनील कुमार सिंह के कुशल मार्गदर्शन में चलाये जा रहे अभियान के अन्तर्गत एवं प्रभारी निरीक्षक ढेबरुआ राजेन्द्र बहादुर सिंह के नेतृत्व मे पुलिस व एसएसबी के संयुक्त गस्त के दौरान वृहस्पतिवार सायं को ग्राम कल्लनडीहवा के पास से चांद अली पुत्र हैदर अली सा0 वार्ड नंबर 09 रामजानकी नगर कस्बा बढ़नी थाना ढेबरुआ जनपद सिद्धार्थनगर को नाजायज़ एक अदद 315 बोर कट्टा व 02 अदद जिन्दा कारतूस के साथ गिरफ्तार किया गया। इस सम्बन्ध में गिरफ्तार अभियुक्त
के खिलाफ थाना ढ़ेबरूआ पर मुकदमा अपराध संख्या 217/19 धारा 3/25 आर्म्स एक्ट का अभियोग पंजीकृत कर आवश्यक कार्यवाही की जा रही है। उक्त अभियुक्त चांद अली पुत्र हैदर अली थाना ढ़ेबरूआ पर पंजीकृत मुकदमा अपराध संख्या- 178/19 धारा 3(1) यूपी गैंगेस्टर एक्ट थाना ढेबरुआ जनपद सिद्धार्थनगर में भी वांछित चल रहा था जिस पर पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थनगर द्वारा 15000/- रूपये का पुरस्कार घोषित किया गया था। इस दौरान गिरफ्तार करने वाले पुलिस व एसएसबी टीम में चौकी प्रभारी बढ़नी उप निरीक्षक महेश सिंह, हेड कांस्टेबल विजय यादव एवं कांंस्टेबल संजय सिंह के साथ एसएसबी उप निरीक्षक वरुन कुमार व एसएसबी कांंस्टेबल धीरेन्द्र कुमार शामिल रहें।

55 शीशी नेपाली शराब के साथ तस्कर गिरफ्तार

शोहरतगढ़/सिद्धार्थनगर। पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थनगर डा.धर्मवीर सिंंह द्वारा चलाये जा रहे शराब तस्करो के विरूद्ध कार्यवाही के क्रम में व अपर पुलिस अधीक्षक मायाराम वर्मा के कुशल निर्देशन में तथा क्षेत्राधिकारी शोहरतगढ़ दिलीप कुमार सिंह के नेतृत्व में मंगलवार को समय 05:00 बजे सुबह प्रभारी निरीक्षक अवधेश राज सिंह को जरिए उचित माध्यम सूचना मिली। जिस पर प्रभारी निरीक्षक द्वारा उपनिरीक्षक विक्रम अजीत राय के नेतृत्व मे टीम गठित कर तत्काल मौके पर भेजा गया। जिसपर मौके से ग्राम झरुआ थाना शोहरतगढ़ जनपद सिद्धार्थनगर निवासी मनौवर पुत्र सत्तार को 55 शीशी नेपाली शराब के साथ गिरफ्तार किया गया। इस दौरान गिरफ्तार करने वाली पुलिस टीम मेंं उ.नि. विक्रम अजीत राय, का. विनीत शुक्ला व का. दुर्गेश कुमार मौजूद रहें।

खुलासा :–शालिनी मिश्रा हत्याकांड का पुलिस ने किया खुलासा , पति ही निकला अपने पत्नी का कातिल , पति के अवैध संबंधों में बाधा बनने के कारण पति ने अपने साथी संग मिलकर किया पत्नी की हत्या

अंकित तिवारी की रिपोर्ट। चिल्हियां/सिद्धार्थनगर । थानाक्षेत्र चिल्हियां के ग्राम सन्तोरी व मेहनौली के बीच मे फाटक वाले पुल के पास 19 अप्रैल की रात हुई 30 वर्षीय शालिनी मिश्रा उर्फ लवली मिश्रा के हत्या का चिल्हियांं पुलिस ने मंगलवार को प्रेस वार्ता कर खुलासा किया।
प्रेस वार्ता के दौरान क्षेत्राधिकारी शोहरतगढ़ दिलीप कुमार सिंह ने बताया कि 20 अप्रैल को बलराम मिश्र निवासी जगरगठिया थाना शोहरतगढ़ द्वारा चिल्हियांं थाने पर लिखित सूचना दी गई कि 19 अप्रैल की शाम करीब 7 बजे उनकी बेटी शालिनी मिश्र उर्फ लवली और दामाद राकेश मिश्रा शोहरतगढ़ से बाजार करके वापस जगरगठिया आ रहे थे, कि तभी रास्ते मे चिल्हियांं थाना क्षेत्र के ग्राम सन्तोरी व मेहनौली के बीच मे फाटक वाले पुल के पास पहुंंचे ही थे कि दो मोटरसाइकिल पर अज्ञात चार लोगों ने बेटी व दामाद पर रॉड व चेन से हमला कर दिया, जिसमें बेटी की घटना स्थल पर ही मृत्यु हो गई और दामाद बेटी को बचाने में गम्भीर रूप से घायल हो गया था, जिसका जिला अस्पताल में इलाज चल रहा है। उक्त सूचना के आधार पर थाना चिल्हियांं पर मु0 अ0 स049/19 धारा 302/307/34 भ0द0वि0 का अभियोग पंजीकृत कर चिल्हियांं थानाध्यक्ष रामेश्वर यादव द्वारा विवेचना की जा रही थी। इसके साथ पुलिस अधीक्षक डॉ0 धर्मवीर सिंह द्वारा मुकदमे के अनावरण हेतु अपर पुलिस अधीक्षक मायाराम वर्मा के पर्यवेक्षण एवं क्षेत्राधिकारी दिलीप कुमार सिंह के निर्देशन में थानाध्यक्ष चिल्हियांं के सहयोग में स्वाट टीम एवं सर्विलांस टीम को भी लगाया गया था। विवेचना में प्राप्त साक्ष्यों के आधार पर प्रकाश में आये अभियुक्त राकेश कुमार मिश्र पुत्र नागेंद्र कुमार मिश्र निवासी संतोरा थाना चिल्हिया जो कि मृतका का पति है को दिनांक 29 अप्रैल को अपराह्न करीब साढ़े चार बजे गौंंहनियांं तिराहे से गिरफ्तार किया गया। क्षेत्राधिकारी ने बताया कि मृतका का पति गौंंहनियांं तिराहे पर मोटरसाइकिल संख्या यूपी 55 क्यू 9410 होंडा साइन से नेपाल भागने के प्रयास में था तभी स्वाट टीम प्रभारी ब्रह्मानंद गौंड एवं थानाध्यक्ष चिल्हियांं रामेश्वर यादव ने अपने सहयोगियों के सहयोग से गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तारी के पश्चात अभियुक्त के निशानदेही पर घटना में प्रयुक्त आलाकत्ल हथौड़ा, खून से सना हुआ अघियुक्त का कपड़ा व दो अदद मोबाइल फोन बरामद किया गया है। क्षेत्राधिकारी ने बताया कि विवेचना एवं अभियुक्त की पूछ ताछ से यह तथ्य प्रकाश में आया है कि अभियुक्त राकेश कुमार मिश्र जो मृतका का पति है उसका अवैध सम्बन्द्ध किसी अन्य महिला से था, जिसका विरोध पत्नी द्वारा किया जा रहा था, जिसको लेकर पूर्व में भी पति पत्नी में भी विवाद हुआ था, पति के अवैध सम्बन्ध में बाधक बनने के कारण पति ने ही अपने सहयोगी अभियुक्त देवी प्रसाद उर्फ तड़पी राम निवासी सन्तोरा के साथ मिलकर सुनियोजित तरीके से अपनी पत्नी की हत्या किया था। इस मामले में अभियुक्त राकेश कुमार मिश्र निवासी सन्तोरा को गिरफ्तार कर चिल्हियांं पुलिस ने जेल भेज दिया है। तथा वंचित अभियुक्त देवी प्रसाद उर्फ तड़पी राम निवासी सन्तोरा की तलाश जारी है। शालिनी हत्याकांड के खुलासा करने वाले टीम में मुख्य रूप से थानाध्यक्ष चिल्हियांं रामेश्वर यादव, स्वाट टीम प्रभारी ब्रह्मा गौण, स्वाट टीम के उप निरीक्षक मनोज कुमार सिंह, उप निरीक्षक चिल्हिया नंदू गौतम, आरक्षी दिलीप द्विवेदी, विवेक मिश्र, भारत यादव, कुलभास्कर, गट्टू पाण्डेय, दीपक गोविंद राव, अश्वनी राय, अवनीश सिंह शामिल रहे।

कपड़ो के गोदाम पर छापामारी, तीन तस्कर गिरफ्तार

पूजा गुप्ता/ रिपोर्टर
कपिलवस्तु/सिद्धार्थनगर। इण्डोनेपाल सीमा क्षेत्र के कस्बा खुनुवांं मेंं नेपाली तस्करोंं के अवैध गोदाम पर पुलिस व एसएसबी खुनुवांं की संयुक्त टीम ने मंगलवार को मुखबीर की सूचना पर छापेमारी किया। जिसमे भारी मात्रा मेंं अवैध कपड़े की कई गाँठ बरामद हुई। खुनुवांं कस्बा स्थित प्रदीप वस्त्रालय व खान शूटिंग शर्टिंंग सप्लायर के नाम से कानपुर व गोरखपुर आदि शहरोंं से अवैध कपड़ों की खेप काफी दिनोंं से आ रहा था, जिसे खुनुवांं कस्बे के राजा कटरा स्थित गोदाम में तस्करों
द्वारा अवैध रुप से तस्करी कर नेपाल भेजा जाता था।
इतना ही नही जूता, चप्पल और पटाखे की भी खेप नेपाल पहुंंचाई जाती थी। गोदाम मे लाखोंं रूपये के बिल मिले हैं जो कपड़े नेपाल जा चुके थे। साथ ही छापे के दौरान पटाखा भी बरामद हुआ। जबकि खुनुवांं कस्बे मेंं उक्त दोनोंं दूकानो का नामोनिशान तक नही है। इन तस्करों पर बार्डर पर तैनात सुरक्षा एजेन्सियो की पैनी निगाहें काफी दिनोंं से टिकी हुई थी। हिरासत मे लिए गए तस्करोंं ने पूछताछ मेंं अपना नाम पता सुनील कुमार गुप्ता पुत्र रमेश गुप्ता निवासी दलदलहा व राकेश यादव पुत्र दुलारे यादव निवासी बैदौली एवं प्रदीप कुमार पुत्र अज्ञात निवासी तौलिहवा थाना तौलिहवा जिला कपिलवस्तु नेपाल बताया। वहीं तस्करोंं का मुखिया शोहरतगढ थाना क्षेत्र के अन्तर्गत करहिया गांव निवासी पप्पू गुप्ता अपनी दूकान बन्द कर भागने मेंं सफल रहा। बरामद माल व तस्करोंं को पुुुलिस टीम शोहरतगढ़ थाना पर ले गयी। खबर लिखे जाने तक पुलिस व एसएसबी टीम बरामद माल को कस्टम खुनुवांं को सुपुर्द करने की तैयारी कर रही थी। संयुक्त टीम मे एसएसबी इन्स्पेक्टर अमर लाल सोनकारिया, चौकी इंचार्ज खुनुवांं एसआई अवधेश कुमार सिंह, थानाध्यक्ष अवधेश राज सिंह, कांस्टेबल संतोष कुमार आदि मौजूद रहे।

फरार चल रहे आरोपी को कट्टे के साथ पुलिस किया गिरफ्तार, भेजा जेल, भवानीगंज थानाक्षेत्र के बिथरिया गांव के अल्लापुर डीह का खोटे 2017 से घोषित था पुलिस द्वारा वांछित

हाषिम रिजवी
डुमरियागंज-सिद्वार्थनगर। सिद्वार्थनगर पुलिस अधीक्षक के दिषा निर्देष पर जिले की पुलिस वांछित अपराधियांे को गिरफ्तार कर जेल भेजने की मुहिम में जुटी हुई है। डुमरियागंज के बाद शनिवार को भवानीगंज पुलिस ने वंाछित अपराधी को कट्टे के साथ गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। पकड़ा गया आरोपी भवानीगंज थानाक्षेत्र के अल्लापुर बिथरिया गांव निवासी 24 वर्षीय खोटे पुत्र मारूफ वर्ष 2017 में एनडीपीएस एक्ट के तहत डुमरियागंज थाने में दर्ज मुकदमे में न्यायालय अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश बांसी से जमानत पर छूटा हुआ था। मुकदमे में न्यायालय द्वारा बार-बार सम्मन बीडब्लू व एनबीडब्लू जारी होने के साथ ही 82 व 83 सीआरपीसी की कार्रवाई के बावजूद न्यायालय में उपस्थित न होने की दशा में पुलिस उसकी तलाष में जुटी थी।
मिली जानकारी के अनुसार शनिवार की शाम को मुखबिर की सूचना पर भवानीगंज थानाध्यक्ष दीपक दूबे अपने साथ एसआई रमाकांत सरोज, जयप्रकाश तिवारी व हमराही सिपाहियों को बिथरिया स्थित सरयू नहर पुल पर पहुंच गए। जहां पर उन लोगों ने घेराबंदी कर आरोपी खोटे को पकड़ लिया। तलाषी में उसके पास से एक अदद तमंचा, दो जिंदा व एक मिसशुदा कारतूस 12 बोर बरामद हुआ। जिसके बाद उसे थाने पर लाकर आम्र्स एक्ट का मुकदमा दर्ज कर जेल भेज दिया गया।
इस संबंध में भवानीगंज थानाध्यक्ष दीपक दूबे ने बताया कि खोटे की तलाष पहले से ही की जा रही थी। बिथरिया नहर पुल पर उसे तमंचा व कारतूस के साथ गिरफ्तार कर लिया गया है। जिसे जेल भेज दिया गया है।

 

इटवा–राजू पार्सल सर्विस के प्रोपराइटर मोहम्मद हसन पर जानलेवा हमला, जख्मी ,

इटवा सिद्धार्थनगर। ग्राम कमदालालपुर में राजू पार्सल सर्विस के प्रोपराइटर मोहम्मद हसन के निजी आवास पर कुछ अज्ञात लोगों ने आकर जानलेवा हमला कर लहूलुहान किया। जिससे वह चोठिल हो गए । इस घटना से लोगो मे दहशत का माहौल है । सूचना पर पहुची इटवा पुलिस ने मामले की तफ्तीश शुरू कर दी है ।

गुमशुदा की तलाश, ग्राम-दुपेडिया (महुवा बुजुर्ग) का बच्चा हमीदुल्लाह उर्फ सब्बू लापता

इटवा, सिद्धार्थ नगर
ग्राम दुपेडिया (महुवा बुजुर्ग), त्रिलोकपुर, जनपद सिद्धार्थ नगर निवासी जमीउल्लाह का पुत्र हमीदुल्लाह उर्फ सब्बू 26 अक्टूबर 2018 को इटवा कस्बे में स्थित मदरसा इत्तेहादे मिल्लत से गायब हो गया था। जिसकी रिपोर्ट इटवा थाना में दर्ज करवा दी गयी थी।
परिवार व थानाध्यक्ष इटवा ने इस लापता बच्चे के बारे में जानकारी देने वाले को उचित इनाम देने का ऐलान भी किया था, परंतु अभी तक इस लापता बच्चे की कोई जानकारी नहीं मिली है।
जिस किसी को इस बच्चे के बारे में कोई जानकारी मिले कृपया थानाध्यक्ष इटवा के मोबाइल नंबर 9454404234 पर जानकारी देने का कष्ट करें।
लापता बच्चे की पहचान
कुर्ता पैजामा सफेद रंग का, उम्र लगभग 12 वर्ष, लंबाई 5 फ़ीट, रंग गोरा इकहरी बदन

कृपया इस सम्बंध में कोई भी जानकारी निम्न नंबरों पर भी दे सकते हैं
परिवार- 7524896195, 8070684447
प्रभारी निरीक्षक- 9454404254

नाबालिग बालिकाओं को अपहरणकर्ताओं को पुलिस ने गिरफ्तार कर भेजा जेल चार महींना पहले बैदौला से बालिकाओं को आरोपियांे ने किया था अपहरण, पुणे से पुलिस ने किया गिरफ्तार

फोटो -नाबालिग बालिकाओं के अपहरण करने के पकड़े गए आरोपी के साथ पुलिस टीम

हाशिम रिजवी
डुमरियागंज-सिद्वार्थनगर। करीब चार महींना पहले दो नाबालिग छात्राओं को उनके घर से बहला फुसलाकर उन्हंे अपहृत करने वाले दोनों आरोपी अपहरणकर्ताओं को डुमरियागंज थाने की पुलिस ने गुरूवार को गिरफ्तार कर पूछताछ करने के बाद उन्हंे गुरूवार को जेल भेज दिया। वहीं नाबालिग बालिकाओं को बरामदगी के बाद महाराष्ट्र के पुणे स्थित सीडब्लूसी (चाइल्ड केयर वेलफेयर सोसाइटी ) को सुपुर्द कर दिया गया है।
बतातें चलंे कि डुमरियागंज थानाक्षेत्र के बैदौला चैराहे की दो नाबालिग बालिकाओं को बीते 18 अगस्त 2018 को दो युवकों ने बहला फुसलाकर अपहरण कर लिया लिया था। जिसकी जानकारी होने पर छात्राओं के परिजनों ने दोनों युवकों के खिलाफ नामजद तहरीर देकर बेटी के अपहरण का आरोप लगाए थे। जिसके बाद मामले में पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर उनकी तलाष में जुट गई थी। मुखबिर से सूचना मिलने पर एसआई राजेन्द्र प्रसाद यादव, हमराही एसबाई पवन कुमार मौर्या, सिपाही उपेन्द्र प्रजापति तीन सदस्यीय टीम पुणे के लिए रवाना हो गई थी। जहां बीते 7 दिसम्बर को पुलिस ने दोनों अपहृत छात्राओं के साथ अपहरणकर्ताओं को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस कार्रवाई के दौरान दोनों छात्राओं को वहीं स्थित चाइल्ड केयर वेलफेयर सोसाइटी को सुपुर्द कर दोनों आरोपियों को लेकर डुमरियागंज पहुंची। जिसके बाद उन्हें पुलिस रिमांड में लेकर पूछताछ की गई। गुरूवार को दोनों आरोपी अजमल निवासी बसडिलिया व सफीकुर्रहमान निवासी बैदौला चैराहा को कोर्ट में पेष कर जेल भेज दिया।
इस संबंध में डुमरियागंज इंस्पेक्टर प्रदीप कुमार सिंह ने बताया कि अपहृत छात्राओं के परिजनों की तहरीर पर आरोपियों के खिलाफ आईपीसी की धारा 363 व 366 के तहत मुकदमा दर्ज कर तलाष शुरू कर दी गई थी। गिरफ्तारी के बाद दोनों को जेल भेज दिया गया है।

 

बिजली के बिल का भुगतान न करने एक बडे बकाएदार को तहसीलदार ने तहसील परिसर से कराया गिरफ्तार, पूर्व में भी तहसीलदार ने बिल जमा करने का आग्रह व न जमा होने पर दी थी कार्यवाही की चेतावनी

इटवा, सिद्धार्थनगर। इटवा तहसील क्षेत्र के बडे़ बकाएदारों पर किए जा रहे कार्यवाही के क्रम में गुरूवार को तहसीलदार ने विद्युत देय के बडे बकाएदार को पकड कर गिरफ्तार करा लिया। इस बात की जानकरी स्वयं तहसीलदार इटवा राजेश अग्रवाल ने एक विज्ञप्ति के माध्यम से दी है । उन्होने बताया की शासन की मंशानुसार बडे बकाएदारों पर वसूली कार्यवाही जारी है। इसी क्रम में विद्युत देय के बडे बकाएदार ग्राम गैंसडा कुटी थाना मिश्रौलिया निवासी आफताब पुत्र मुस्तफा को पकड कर गिरफ्तार किया गया है। इनके ऊपर विद्युत देय का दो लाख सत्ताइस हजार आठ सौ नवासी रूपया बाकी है। पूर्व में भी इनसे मिलकर बकाया जमा करने का अनुरोध किया गया था। लेकिन कोई बिल भुगतान नही किया गया । जिसको लेकर गिरफ्तारी की गयी है ।

17 वर्षीया अफसर जहां की मौत का हुआ खुलासा , लापता बालिका की मिले लाश का मामला

शोहरतगढ़/सिद्धार्थनगर। ढ़ेबरुआ थानाक्षेत्र के खजुरिया शर्की में गत 08 दिसम्बर की सुबह गांव के ही सीवान मेें 17 वर्षीया लापता बालिका की लाश के मामले में ढ़ेबरुआ पुलिस ने खुलासा गुरुवार को किया दिया है। चार नामजद आरोपियों में तीन को पुलिस ने धारा 302/201 आईपीसी के तहत मुकदमा दर्ज कर जेल भेज दिया और एक आरोपी को पुलिस अभी तक गिरफ्तार नहीं कर पायी। प्राप्त जानकारी के मताबिक ढ़ेबरुआ थाना परिसर में गुरुवार को पत्रकार-वार्ता में क्षेत्राधिकारी शोहरतगढ़ सुनील कुमार सिंह की अध्यक्षता में आयोजित किया गया। जिसमें गत 08 दिसम्बर को 17 वर्षीया अफसर जहां की हत्या का खुलासा किया गया। इस दौरान पुलिस ने बताया कि मृतका की बात-चीत जमीरुल्लाह पुत्र इलियास उर्फ कल्लू व अरमान पुत्र महबूब निवासी जिगिना परसा थाना इटवा से फोन के माध्यम से हो रही थी और गत 02 दिसम्बर को मृतका जमीरुल्लाह के साथ भाग गयी। परन्तु पारिवारिक दबाव को बढ़ता देख जमीरुल्लाह अपने बड़े भाई मो.कासिम उर्फ गामा पुत्र इलियास उर्फ कल्लू निवासी खजुरिया शर्की थाना ढ़ेबरुआ, अरमान पुत्र महबूब निवासी जिगिना परसा थाना इटवा व यार मोहम्मद पुत्र रफातुल्लाह निवासी भोजवारी ग्रान्ट थाना ढ़ेबरुआ के साथ मृतका अफसर जहां को लेकर अपने गांव खजुरिया शर्की पहुंचा और मृतका को घर जाने के लिए कहा परन्तु मृतका वापस घर जाना नहीं चाहती थी। दोनों में वहीं विवाद होने लगा और जमीरुल्लाह ने मृतका के सिर पर पीछे से लोहे के राड से मार दिया। जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गयी। उसके बाद चारों लाश को वहीं पुआल से ढ़क कर भाग गये। जमीरुल्लाह 04 दिसम्बर को मुम्बई भाग गया। 08 दिसम्बर को सुबह मृतका की लाश मिलने के बाद पुलिस नामजद चारों आरोपियों की तलाश में जुट गयी। 13 दिसम्बर को भोर में 05.30 बजे प्रभारी थाना निरीक्षक राजेन्द्र बहादुर सिंह के नेतृत्व में पुलिस टीम थानाक्षेत्र के ही झकहिया चौराहे पर मो.कासिम उर्फ गामा पुत्र इलियास उर्फ कल्लू निवासी खजुरिया शर्की थाना ढ़ेबरुआ, अरमान पुत्र महबूब निवासी जिगिना परसा थाना इटवा व यार मोहम्मद पुत्र रफातुल्लाह निवासी भोजवारी ग्रान्ट थाना ढ़ेबरुआ को गिरफ्तार कर लिया। जबकि जमीरुल्लाह पुत्र इलियास को पुलिस अभी तक गिरफ्तार नहीं कर सकी है। आरोपियों कै गिरफ्तार करने गयी टीम में उपनिरीक्षक सुरेश यादव, उपेन्द्र सिंह, हेड कांस्टेबल दुर्विजय यादव, संजीत श्रीवास्तव श व आदर्श श्रीवास्तव शामिल थे।