कार्यवाई : फर्जी स्टाम्प के सहारे मकान को खाली भूमि दिखाकर करवा ली रजिस्ट्री , तहसीलदार इटवा राजेश अग्रवाल द्वारा की गई जांच में सामने आयी भूमाफियाओं की करतूत

IMG-20190326-WA0037.jpg

मेराज़ मुस्तफा

सिद्धार्थनगर : पच्चीस वर्ष पूर्व खरीदी गई भूमि पर मकान बनाकर निवास कर रहे इटवा तहसील क्षेत्र के ग्राम मूसा निवासी रव्वाब अली पुत्र यार मोहम्मद को पूर्व भू स्वामी द्वारा मकान खाली करने की धमकी दिए जाने से पीड़ित रव्वाब अली सोमवार को लिखित प्रार्थना पत्र के साथ तहसीलदार इटवा राजेश अग्रवाल के पास पहुंचकर न्याय की गुहार लगाई तो उक्त प्रकरण को गम्भीरता से लेते हुए तहसीलदार राजेश अग्रवाल ने पीड़ित की बात सुनकर जब तथ्यों की जांच की तो भूमाफियाओं का हैरतअंगेज कारनामा सामने ।

क्या है मामला ?

इटवा तहसील क्षेत्र के ग्राम मूसा निवासी रव्वाब अली पुत्र यार मोहम्मद ने लिखित शिकायत के द्वारा तहसीलदार इटवा राजेश अग्रवाल के समक्ष अपनी बात रखी तो ज्ञात हुआ कि ग्राम मूसा की आराजी संख्या ६८९ जिसका कुल रकबा ०.०५७ हेक्टेयर है व उपरोक्त आराजी पर पीड़ित रव्वाब अली तकरीबन पच्चीस वर्षो से मकान बनाकर निवास कर रहा लेकिन ग्राम मूसा के ही भू-माफिया इसराईल द्वारा लगातार उक्त घर को खाली करने की धमकी दे रहा ।

अशिक्षा व अज्ञानता के चलते पीड़ित उक्त भूमि को अपने नाम से नही दर्ज करवा सका

मुंबई में रहकर मजदूरी कर किसी तरह जीवन यापन के लिए मेहनत करके जमा की गई पाई-पाई से रव्वाब अली ने उपरोक्त आराजी क्रय किया था व पच्चीस वर्षों से मकान बनाकर निवास भी कर रहा लेकिन अज्ञानता व अशिक्षा के चलते क्रय की गई भूमि को अपने नाम नही दर्ज करवा सका जिसकी जानकारी ग्राम के ही इसराईल को हुई तो फर्जी स्टाम्प स्टाम्प द्वारा चोरी चुपके से उक्त भूमि को स्वयं के नाम से खाली भूमि दिखाकर रजिस्ट्री करवा ली व पीड़ित रव्वाब अली को लगातार मकान खाली करने की धमकी देने लगा जिससे पीड़ित रव्वाब अली सकते में आ गया व सोमवार को न्याय की गुहार लगाते हुए तहसीलदार इटवा राजेश अग्रवाल के समक्ष पहुचा तो उन्होंने सभी तथ्यों की जांच स्वयं करने का निर्णय लिया । तहसीलदार राजेश अग्रवाल द्वारा किए गए जांच में भू-माफिया का हैरतअंगेज कारनामा सामने आया जिससे तहसीलदार राजेश अग्रवाल स्वयं भी स्तब्ध रह गए कि किस तरह से फर्जी दस्तावेजों के सहारे रजिस्ट्री दिखाया गया है।

तहसीलदार राजेश अग्रवाल ने कहा पीड़ित को मिलेगा न्याय व फर्जीवाड़ा करने वाले को पर होगी सख्त कार्यवाई

मौके पर जाकर जब तहसीलदार राजेश अग्रवाल ने देखा तो सर्वप्रथम उक्त आराजी को खाली दिखाकर करवाई गई रजिस्ट्री के विपरीत मकान बना मिला एवं भू-माफिया से फोन पर बात की एवं सभी बातों की पुष्टि करने के लिए पूछताछ की तो भू-माफिया इसराईल उन्हें सही तरीके से जवाब न दे सका बाद में दस्तावेजों के फर्जी होने की बात स्पष्ट रूप से खुलकर सामने आ गई जिसपर तहसीलदार राजेश अग्रवाल ने पीड़ित पक्षकार रव्वाब अली पुत्र यार मोहम्मद को आश्वासन दिया कि उनके साथ किसी भी तरह से अन्याय नही होने पाएगा व फर्जी स्टाम्प द्वारा कूटरचित तरीके से भूमि की रजिस्ट्री दिखाकर धमकाने वाले आरोपी को कठोर से कठोर दण्ड दिलाया जाएगा ताकि भविष्य में कोई भी भू-माफिया इस तरह के कार्यों से किसी का शोषण न करने पाएं।तहसीलदार राजेश अग्रवाल के द्वारा प्रार्थना पत्र मिलने के तुरंत बाद ही एक्शन लेने व दिन भर में ही पूरे मामले को स्पष्ट कर पीड़ित पक्षकार रव्वाब अली को न्याय दिलाने की बात सुनकर तहसील क्षेत्रवासियों द्वारा तहसीलदार राजेश अग्रवाल की सराहना व गुणगान करते नही थक रहे तो दूसरी तरफ तहसील क्षेत्र के भू-माफियाओं के होश उड़े हैं ।
तहसीलदार राजेश अग्रवाल के द्वारा न्याय के लिए त्वरित उठाए गए इस कदम से लोगों ने उम्मीद जताई कि ऐसे अधिकारियों के होने से क्षेत्र में कोई भी व्यक्ति किसी गरीब व दबे कुचले वर्ग का शोषण नही कर सका ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *