गैर संचारी रोगों की पहचान के लिए घर- घर जाएंगी आशा कार्यकर्ता , 16 जनवरी से जिले में चलेगा गैर संचारी रोग अभियान

सिद्धार्थनगर। तेजी से पांव पसार रहे गैर संचारी रोगों को लेकर स्वास्थ्य विभाग गंभीर है। जो बीमारियां पहले 40 से 50 वर्ष के दरम्यान लोगों में होती थी, वह अब 30 वर्ष के उम्र में ही लोगों को अपने चपेट में ले रही हैं। इसी को ध्यान में रखते हुए 16 जनवरी से स्वास्थ्य विभाग घर- घर जाकर बीमारियों की पहचान करेगा। इसमें 30 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों पर फोकस होगा। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन जिले में 16 जनवरी से 15 फरवरी तक गैर संचारी रोगों की पहचान के लिए अभियान चलाएगा। इसके लिए उपकेंद्र, पीएचसी, शहरी पीएचसी के साथ हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर पर सेवाओं को लेकर सही किया जा रहा है। इन केंद्रों पर अभियान के दौरान आने वाले मरीजों की स्क्रीनिंग होगी। डीपीएम राजेश शर्मा ने बताया कि 30 साल से अधिक उम्र के 4.90 लाख पुरुष व महिलाओं की स्क्रीनिंग का लक्ष्य है। यह अभियान ग्रामीण क्षेत्र के उपकेंद्रों, पीएचसी, शहरी पीएचसी व हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर पर चलेगा।
डीसीपीएम मानबहादुर ने बताया कि अभियान के समय समुदाय आधारित मूल्यांकन प्रपत्र (सीबैक फॉर्म) भरा जाएगा, जिसे भरने के बाद सीएचओ या एएनएम के पास जमा कर पोर्टल पर अपलोड की जाएगी। जरूरत पड़ने पर सीएचओ व एएनएम ग्रामीण अंचल के दूरस्थ केंद्रों पर भी स्क्रीनिंग के लिए शिविर का आयोजन करेंगे।
आशा कार्यकर्ता अभियान के दौरान तय रोस्टर के हिसाब से 30 वर्ष से अधिक आयु की महिला व पुरुषों को गैर संचारी रोग डायबिटीज़, हाइपरटेंशन, ओरल व ब्रेस्ट कैंसर की स्क्रीनिंग के लिए सेंटर पर लाएंगी।
ग्रामीण क्षेत्रों में कार्यरत आशाओं को 185 एवं शहरी क्षेत्र की आशाओं को 370 लाभार्थियों के स्क्रीनिंग का लक्ष्य सौंपा गया है। आशाएं अपने कार्यक्षेत्र में मिले लक्ष्य के हिसाब से स्क्रीनिंग कराएंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *