पूर्वांचल विकास मंच के कार्यकर्ताओं ने पूर्वांचल विद्युत निगम का निजीकरण करने की मांग की, लोगों का कहना है कि जर्जर तार से लेकर विभाग की लापरवाही से नही हो रहा कोई समस्या का समाधान, नहीं हो रही कोई सुनवाई

IMG-20200914-WA0341.jpg

, इटवा ,सिद्धार्थनगर। पूर्वांचल विद्युत निगम की लापरवाही को लेकर आक्रोशित पूर्वांचल विकास मंच के कार्यकर्ताओं ने सोमवार को मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन उप जिलाअधिकारी इटवा को सौंप कर कार्यवाही की मांग की ।

प्राप्त जानकारी के अनुसार सोमवार को इटवा तहसील में पूर्वांचल विकास मंच के कार्यकर्ता इकट्ठा होकर आक्रोश जताते हुए
(यूपीपीसीएल) विद्युत निगम का व्यवस्था पूर्वांचल के क्षेत्र में पूरी तरीके से भ्रष्ट एवं लो वोल्टेज, जर्जर तार, बगैर मीटर रीडिंग के अधिक बिल भेज देना, समय से बिजली उपलब्ध ना कराना, ट्रांसफार्मर बदलने के नाम पर धन उगाही करना, पीड़ित उपभोक्ता का कार्यालय पर समाधान ना करके बार-बार कार्यालय पर दौड़ाना, नए कनेक्शन लेने पर रजिस्ट्रेशन के नाम पर अधिक धन उगाही करना,आदि समस्याओं से पूर्वांचल क्षेत्र की जनता (यूपीपीसीएल) विद्युत निगम
से त्रस्त है।
इसी क्रम में सिद्धार्थनगर जनपद के नव निर्मित नगर पंचायत इटवा कस्बे में विद्युत विभाग के लापरवाही के कारण इस भीषण गर्मी में जनता को गर्मी से झुलसने को मजबूर है ऐसे में पूर्वांचल विद्युत निगम का निजीकरण किया जाए लोगों का काम जल्द से जल्द लोगों की सुनवाई हो और उनका काम आसान हो। इस दौरान

1 राष्ट्रीय अध्यक्ष नंदलाल सोनी
2 जयप्रकाश त्रिपाठी
3 मसीहुद्दीन चौधरी
4 विक्रांत श्रीवास्तव
5 महीउद्दीन सिद्दीकी
6 सुनील कुमार आदि लोग मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *