………. तो बालू खननकर्ताओं सीबीआई का भी नहीं है खौफ

परसोहन घाट से लेकर इमिलया व भियरा तक रातोरात हो रहा बालू खनन 

सरताज आलम

 

सिद्धार्थनगर।इटवा तहसील क्षेत्रखनन2 ndi me khanana kiya asthalकर्ताओं पर नकेल कसने की सीबीआई के आहट से भले ही जिले भर में खनन माफिया दहशत में हो। लेकिन  इटवा तहसील क्षेत्र के पश्चिमी छोर पर स्थित बूढ़ी राप्ती नदी के तट परशोहन , इमिलिया, लमुइया , भिउरा, छगड़िहवा ,पर विभिन्न घाटों पर अबैध रुप से बालू खनन कार्य जारी है। । सवाल यह उठ रहा कि आखिर इन खनन माफियाओं को कौन संरक्षण दे रहा है। चर्चा के मुताविक ये खननकर्ता बेखौफ होकर धड़ल्ले से अवैध रुप से खनन कार्य को अंजाम दे रहे है। परमिट के आभाव में सरकार को भी भारी राजस्व का चूना लग रहा है। तो वहीं तहसील प्रशासन से लेकर त्रिलोकपुर पुलिस के अलावा जिगना चैकी पुलिस इस अबैध कार्य पर अंकुश लगाने में नाकाम साबित हो रहा है। चर्चा है कि इस अबैध कार्य में क्षेत्रीय पुलिस का भी संरक्षण प्राप्त है। शासन द्वारा बालू पर प्रतिबन्ध के बावजूद नदियों व घाटो पर अवैध रुप से बालू खनन रुकने का नाम नहीं ले रहा है। जब कि इस मामले में माननीय न्यायालय भी बेहद गम्मीर है। लेकिन तहसील क्षेत्र के पश्चिमी क्षेत्र में नदी के किराने बगैर लायल्टी व परमिट के अबैध रुप से बालू का खनन कई दिनों से जारी है। बतौर क्षेत्रवासी अमरजीत यादव, बिन्दूपाल आदि ने अबैध बालू खनन पर अंकुश लगाने की मांग की है। इस संबंध में उपजिलाअधिकारी जुबेरबेग नें कहा कि उक्त स्थानो पर कई बार छापेमारी की जा चुकी है। पुनः जांच की जायेगी। यदि इस तरह का  कार्य करते पाया गया तो संबंधित के विरुद्ध सख्त कार्यवाही की जायेगी।

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *