45 घण्टों बाद हुआ माता के मूर्तियों का विसर्जन , मूर्तियों को खुद विसर्जन कराने ले जा रहे पुलिस टीम को महिलाओं ने खदेड़ा , पुलिस ने अश्रु गैस छोड़ा, हवाई फायरिंग की भी चर्चा , स्थिति तनावपूर्ण, कृष्णानगर व उससे सटे क्षेत्रों में कर्फ्यू की घोषणा

पूजा गुप्ता
कपिलवस्तु, सिद्धार्थनगर। मित्र राष्ट्र नेपाल के सीमावर्ती कस्बा कस्बा कृष्णानगर में मूर्ति विसर्जन के दौरान उपजे बवाल के कारण रविवार तीसरे दिन भी तनाव बरकरार रहा। पुलिस बल द्वारा रविवार दोपहर में मूर्तियों को जबरदस्ती विसर्जन हेतु ले जाने का प्रयास करने पर माहौल काफी बिगड़ गया। भारी संख्या में महिलाओं ने पुलिस कृत्य का बलपूर्वक प्रतिकार करते हुए उन्हें खदेड़ दिया। पुलिस ने आत्मरक्षार्थ अश्रु गैस के गोले दागे और हवाई फायरिंग भी की। तनाव के बीच निकास का उच्चस्तरीय प्रयास जारी है। मित्र व पड़ोसी राष्ट्र नेपाल का सीमावर्ती कस्बा कृष्णानगर में बीते शुक्रवार की रात करीब 8:30 बजे विसर्जन हेतु ले जाई जा रही दुर्गा मूर्तियों के काफिले पर कतिपय शरारती तत्वों द्वारा पथराव कर दिए जाने व उन शरारती तत्वों की गिरफ्तारी ना किये जाने से आक्रोशित दुर्गा पूजा समिति के लोगों द्वारा विसर्जन रोक दिया गया था। दुर्गा पूजा समिति के लोगों द्वारा कस्बे में मूर्ति रोककर उसी समय से धरना दिया जाने का क्रम जारी है। बिगत दिवस सायं नेपाल प्रहरी के प्रभारी एसपी, सांसद, मेयर आदिजनो के प्रयास से दुर्गा पूजा समिति के लोगों को मना कर विसर्जन कराने का प्रयास किया गया, किंतु इसी बीच फिर से कुछ लोगों द्वारा पथराव कर तीन युवकों को घायल कर दिए जाने से मामला बनते बनते बिगड़ गया था। दुर्गा पूजा समिति के लोग बुरी तरह आक्रोशित हो गये थे और प्रशासन को जमकर कोसा। भारी पुलिस बल की मौजूदगी में भी घट रही घटनाओं से लोगों में विश्वसनीयता का संकट उत्पन्न हो गया। अंततः बिगत दिवस भी विसर्जन नहीं हुआ। रविवार दोपहर नवागत एसपी (कपिलवस्तु) द्वारा अचानक जबरदस्ती मूर्तियों को विसर्जन हेतु ले जाया जाने लगा। पुलिसिया बल प्रयोग के उक्त निर्णय को देख लोगों में आक्रोश का ज्वार फट पड़ा। उक्त स्थिति में जब महिलाएं भिज्ञ हुई , तो उन्होंने मानो दुर्गा शक्ति का रूप ले लिया सैकड़ों की संख्या में महिलाएं लाठी डंडा लेकर पुलिस बल पर टूट पड़ी। युवाओं ने भी पुलिस कार्रवाई का जोरदार प्रतिकार किया तो पुलिस टीम सुरक्षात्मक स्थिति में हो गई । मामला उल्टा पढ़ते देख पुलिस ने बचाव के लिए टीयर गैस के गोले दागे, चर्चा है कि हवाई फायरिंग भी की गई। गुस्साए लोगों ने जनप्रतिनिधियों पर भी गुस्सा उतारा। रविवार 45 घंटे बाद सायं करीब 4:00 बजे तक लोग आंदोलित रहे और मूर्तियों का डोला जहां जहां खड़ा रहा। प्रशासन दुर्गा पूजा समिति के लोगों को कार्रवाई का लिखित आश्वासन देकर मान मनोबल में जुटा रहा। मौके पर एसपी अच्युत पुकरेल, डीएसपी रवि रावल, सांसद अभिषेक प्रताप शाह, मेयर रजत प्रताप शाह, उवास अध्यक्ष गुरुशरण सिंह, व्यापार संघ जिला अध्यक्ष महादेव पोखरेल, समाजसेवी श्याम मिश्र आदि लोग निराकरण में लगे रहे। जिला प्रशासन द्वारा स्थित की नजाकत को देखते हुए कतिपय क्षेत्रों में सायं 5:00 बजे से कर्फ्यू की घोषणा की गई है। बार्डर पर एसएसबी बेहद अलर्ट रही और आवागमन नियंत्रित रहा। रविवार सायं कड़ी सुरक्षा में मूर्तियां विसर्जन हेतु पुनः नए सिरे से चल पड़ी है। श्याम मिश्र के अगुवाई में सैकड़ों युवाओं का जत्था शोभायात्रा में शामिल हुआ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *