​रविवार को सपा छोड़ बसपा में सामिल होगें हजारों कार्यकर्ता

इटवा । इटवा विधानसभा क्षेत्र के मिठौव्वा चौराहे अगामी 20 नवम्बर को होने वाले विशाल जनसभा में पुर्व जिला पंचायत सदस्य व ग्राम प्रधान नजरे आलम के अगुवाई में हजारों कार्यकर्ता सपा छोड़ बसपा में सामिल होगें। 



बताते चलें कि नजरे आलम  इटवा विधानसभा से सपा के वरिष्ठ नेताओं में गिने जाते हैं। ओर इटवा विधानसभा के पुर्वी छोर में उनकी एक अच्छी पकड़ मानी जाती है। पुर्वांचल क्रान्ती टीम से बात करते हुये उन्होंने कहा कि बहन मायावती के सर्वजन हिताय सर्वजन सुखाय की नीति से ही प्रदेश और आम आदमी का भला होना है। हमें उनकी इस आशा को हकीकत में बदलना है। इसलिए मै ओर मेरे साथ हजारों कार्यकर्ता 20 नवम्बर को मिठौव्वा चौराहे पर विशाल जनसभा के दौरान बसपा में सामिल होकर आने वाले 2017 के चुनाव में मायावती के हाथों को मजबूत करना है। 
 अन्य दलों के कार्यकर्ता भी हैं बसपा के संपर्क में

इटवा विधानसभा से बसपा के घोषित प्रत्यासी अरशद खूर्शीद का कहना है कि अभी बड़ी तादाद में सपा ,भाजपा व अन्य पार्टियाें के कार्यकर्ता हमारे साथ जुड़ने वाले हैं। वहीं सपा सरकार ने भी नरेंद्र मोदी की तरह जनता को दिन में सपने दिखाए हैं। विकास के नाम पर प्रदेश का विनाश कर दिया। लूट, डकैती, अपहरण, बलात्कार, चोरी और पुलिस की गुंडई से जनता त्रस्त है। उन्होंने कहा कि सिद्धार्थनगर की पांचों सीटों पर बसपा का परचम फहरेगा। वहीं सपा छोड़ बसपा में सामिल होने वाले पुर्व जिला पंचायत सदस्य प्रत्यासी नजरे आलम प्रधान का कहना है कि ये तो सिर्फ शुरुआत है तरकस के तीर निकलना अभी बाकी हैं।

​महाराष्ट्रा में शोहरतगढ़ वासियों से मिलने पहुंचे  कांग्रेसी नेता इसरार अहमद 

मुम्बई । 2017 विधानसभा का चुनाव ज्यूं ज्यूं करीब आ रहा है । सभी पार्टियाें के नेता अलग अलग तरीके से चुनाव प्रचार में लग गयें हैं। शोहरतगढ़ 302 विधानसभा से कांग्रेस से टिकट मांग इसरार अहमद ने आज पुर्वांचल क्रान्ती के टीम से फोन पर वर्ता करते हुये कहा है कि शोहरतगढ़ क्षेत्र के काफी संख्या में लोग मुम्बई में रहते हैं । मुम्बई में रहने वाले शोहरतगढ़ क्षेत्र के लोगों के बीच यह बताने के लिये आयें है कि आपका एक एक वोट अति महत्पुर्ण है। 

कांग्रेस नेता इसरार अहमद ने कहा कि सपा के राज में जनता का जीना मुहाल है। यह पार्टी घर के झगड़ों में उलझी है और प्रदेश की जनता निराश हो चुकी है। उन्होंने कहा कि लोगों को ठान लेना चाहिए कि प्रदेश में सपा को हरा कर मुज्फ्फर नगर कांड कराने वाली फिरपरस्त ताकतों को इस बार शिकस्त देना है।

 आखिर में उन्होंने कहा कि वह अपने शोहरतगढ़ के हर कामगार भाई को बताने आयें हैं कि शोहरतगढ़ क्षेत्र से कांग्रेस पार्टी हमें टिकट देगी यह  पिछले सप्ताह हुये राहुल संदेश यात्रा के दौरान ही साफ संकेत मिल चुका है। अगर आप लोगों की सहयोग रहा तो हम शोहरतगढ़ क्षेत्र से चुनाव लड़ेगें। उन्होने ने कहा कि हमें लोगों की की मदद चाहिये ताकि हम शोहरतगढ़ में विकास  कर हर गरीब के साथ न्याय कर सकें ।

महासंग्राम 2017: इटवा विधानसभा से किस पार्टी का प्रत्याशी फहरा सकता है विजय पताका?

जनपद सिद्धार्थ नगर का सबसे बड़ा सिलसिलेवार ऑनलाइन सर्वे


इटवा विधानसभा से किस पार्टी का प्रत्याशी फहरा सकता है विजय पताका?
  • कांग्रेस 57%, 918 votes
    918 votes 57%
    918 votes - 57% of all votes
  • बहुजन समाज पार्टी 38%, 610 votes
    610 votes 38%
    610 votes - 38% of all votes
  • समाजवादी पार्टी 2%, 38 votes
    38 votes 2%
    38 votes - 2% of all votes
  • भारतीय जनता पार्टी 2%, 35 votes
    35 votes 2%
    35 votes - 2% of all votes
  • पीस पार्टी 1%, 10 votes
    10 votes 1%
    10 votes - 1% of all votes
  • अन्य 1%, 9 votes
    9 votes 1%
    9 votes - 1% of all votes
Total Votes: 1620
November 10, 2016 - April 24, 2019
Voting is closed

महासंग्राम 2017: विधानसभा – इटवा (305) से कांग्रेस प्रत्यशी के रूप में आप किसे पसंद करते हैं?

जनपद सिद्धार्थ नगर का सबसे बड़ा सिलसिलेवार ऑनलाइन सर्वे


 

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के लिए विधानसभा क्षेत्र इटवा (३०५) के लिए आप किसे सही प्रत्याशी समझते हैं ?

 


abdus-salam
Abdus Salam
thakur-tiwari
Thakur Prasad Tiwari
img_20161028_204458
Murtaza Chaudhary
moqeem
Mohd. Muqeem

 

 

 

 

 

​विधानसभा चुनाव 2017 यूपी में पूर्ण बहुमत की सरकार बनायेगी कांग्रेस :    मुर्तजा चौधरी 

 

डा० जंगबहादुर चौधरी

 

इटवा, सिद्धार्थ नगर । विधानसभा 2017 के चुनाव में कांग्रेस पार्टी उo प्रo में पूर्ण बहुमत की सरकार बनायेगी । यही कारण है की कांगेंस पार्टी को सदस्यता अभियान वा जनसभाओ में अपार जन समर्थन मिल रहा है।

उक्त बाते इटवा विधानसभा छेत्र से कांग्रेस पार्टी के बरिष्ठ नेता वा प्रत्याशी पद के प्रबल दावेदार मुर्तजा चौधरी ने गुरुवार को पूर्वांचल क्रान्ति से एक विशेष वार्ता के दौरान कही । उन्होने कहा कि केन्द्र सरकार ने जनता से जो वादे किये थे उसी पूरा करने में असफल होने पर अनर्गल बयानबाजी कर देश कि जनता कॊ गुमराह करने का काम कर रही है । जिसे जनता बखूबी समझ रही है। उन्होने कहा कि वही उत्तर प्रदेश की सपा सरकार किसानों वा व्यापारियों को छलने का का काम कर रही है। क्षेत्र में किसानों के धान की फसल की कटाई तेजी से हो रही है। लेकिन सरकारी खरीद केन्द्रों का पता नहीं है। जब की क्षेत्र के वर्तमान विधायक सपा सरकार में शीर्ष पद पर बिराजमान है। बावजूद धान खरीद केन्द्र का पता नही किसान अपने धान की उपज प्राइवेट दुकनों पर औने पौने दामों में बेचने को मजबूर है । मुर्तजा चौधरी ने कहा की क्षेत्र की नहर सूखी है। जब कि किसानों को धान काटने के बाद खेत में पानी लगाकर फटकारने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी 2017 के चुनाव में प्रदेश में उभर कर सामने आयेगी। इस बार के चुनाव में हमारे कार्यकर्ताओं का उत्साह काफी अधिक है। बिहार से जो हवा उठी है वही पूर्वांचल में भी चल रही है।  उत्तर प्रदेश की जनता ने यहां सपा,बसपा को देख लिया और भाजपा के भी दो वर्षो के कार्यकाल में झूठे वादों से पूरी तरह वाकिफ हो गयी है। प्रदेश में करीब 27 वर्षो से लोग सपा और बसपा के कोरे आश्वसनों और झूठे विकास से थक गये है ।  यहां की सड़कों की हालत देख कर यह कहीं से प्रतीत नहीं होता है। कि यहां से सपा के कद्दावर नेता वा लगातर कई बार विधायक चुने गये नेता का क्षेत्र है। जो चुनाव के समय वादे करते है लेकिन काम शून्य है।  जनता इस बात को भली भाँति समझ चुकी है और 2017 के विधान सभा चुनाव में हिसाब लेगी।

​विधानसभा चुनाव 2017 में  उत्तर प्रदेश में  सपा वा कांग्रेस में गठबंधन के आसार।  भाजपा में बढ़ी बेचैनी

प्रदीप चौधरी


लखनऊ।  विधानसभा 2017 के चुनाव में  उत्तर प्रदेश में महागठबंधन की चर्चा जोरों पर है।  सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव और कांग्रेस के रणनीतिकार प्रशांत किशोर की मंगलवार को दिल्ली में मुलाकात से  गठबंधन की संंभावनाए और बढ़ती नजर आ रही है । दिल्ली में हुई मुलायम सिंह और प्रशांत किशोर  से  मुलाकात के भी कुछ इसी तरह मायने निकल रहे है । सूत्रों का कहना है कि दोनों दलों के बीच गठबंधन की शर्तों को लेकर बातचीत चल रही है और दोनों दल जल्द ही इस विषय पर अंतिम परिणाम पर पहुंच सकते हैं। अगर यह गठबंधन अस्तित्व में आया तो इससे सबसे अधिक नुकसान भाजपा को होने की प्रबल सम्भावना है ।

कांग्रेस-सपा का गठबंधन बनते ही प्रदेश के सियासी समीकरण तेजी से बदलना तय माना जा रहा है। यहां यह भी साफ है कि कांग्रेस और सपा का यदि महागठबंधन बना तो इस चुनावी महासंग्राम को देखते हुए कई और दल भी इस गठबंधन का हिस्सा बन सकते है जिससे इस गठबंधन को और अधिक मजबूती  मिलेगी।

सूत्रों से प्राप्त खबरों के मुताबिक कांग्रेस के मौजूदा रणनीतिकर प्रशांत किशोर और सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव के बीच हुई घंटों मुलाकात से महागठबंधन के आसार अधिक है। हालांकि इस बात कई चर्चाएं हो रही है।